当前位置: बेस्ट गेम कंसोल > मैटल क्लासिक बेसबॉल > मैटल क्लासिक बेसबॉल कोरोना के संक्रमण को रोक सकती हैं पहले से मौजूद ये दो दवाए
随机内容

मैटल क्लासिक बेसबॉल कोरोना के संक्रमण को रोक सकती हैं पहले से मौजूद ये दो दवाए

时间:2020-09-16 12:16 来源:बेस्ट गेम कंसोल 点击:76
corona People with neutralising antibodiesमैटल क्लासिक बेसबॉल, howeverमैटल क्लासिक बेसबॉल, may be able to handle subsequent infections better and with less morbidity.

Coronavirus Medicine : दुनियाभर में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। चीन से उत्पन्न हुए इस खतरनाक वायरस ने अबतक दो करोड़ से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। वहींमैटल क्लासिक बेसबॉल, इस वायरस से अबतक 778मैटल क्लासिक बेसबॉल,102 लोगों की मौत हो गई है। कोरोनावायरस के इलाज के लिए कई वैक्सीन (Coronavirus Medicine ) का ट्रायल किया जा रहा है। Also Read - स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहामैटल क्लासिक बेसबॉल, हाथ में इलेक्ट्रॉनिक गोल्फ खेल कोविड रोगियों के लिए मेडिकल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं

इस बीच एक नया अध्ययन सामने आया है। इस अध्ययन में बताया गया है कि मौजूदा समय में दो ऐसी (Coronavirus Medicine ) दवाएं हैं, जो कोविड-19 के लिए जिम्मेदार सार्स-सीओवी-2 को मानव कोशिकाओं पर अटैक करने से रोकती हैं। इन दोनों दवाइयों का नाम है वैक्यूओलिन-1 (vacuolin-1) और एपिलिमोड (apilimod)। यह अध्ययन जर्नल पीएनएएस में प्रकाशित किया गया है। इस अध्ययन के मुताबिक, इन दवाओं को सालों पहले मूल रूप से विकसित किया गया था। Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 49,30,236,मैटल क्लासिक बेसबॉल अब तक 80,776 लोगों की मौत

एंजाइम पिकफाइव काइनेज को करती हैं बेअसर 

खबरों के अनुसार,  वैक्यूओलिन-1 (vacuolin-1) और एपिलिमोड (apilimod) दवाएं एक बड़े एंजाइम पिकफाइव काइनेज को अपना निशाना बनाती हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि इस अध्ययन से पहले कोरोना के संक्रमण में इस एंजाइम की भूमिका के बारे में बहुत कम ज्ञान था। अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि इस परीक्षण के दौरान प्रक्रिया को दोहराने की जरूरत है, जो यह संकेत देता है कि कोरोनावायरस के इलाज में यह संभावित पद्धति हो सकती है। Also Read - केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, कोरोनावायरस से लड़ाई अभी जारी रहेगी

कोविड-19 की गंभीरता को करेगी कम

अध्ययन के लेखक और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के प्रोफेसर टॉमस किरछाउसेन ने कहा, ‘हमारे अध्ययन से इंगित होता है कि सार्स-कोव-2 के खिलाफ इस काइनेज को विषाणु रोधी दवा से निशाना बनाना प्रभावी रणनीति हो सकती है और कोविड-19 की गंभीरता को कम करने में सहायक होगा।’

हर्ड इम्यूनिटी तक पहुंचना नहीं होगा जल्दी संभव, जानें क्या है एक्सपर्ट्स की राय

किरछाउसेन ने कहा कि उन्होंने सीन व्हेलन प्रयोगशाला में कोशिका जीवविज्ञान पर अध्ययन किया है। आगे उन्होंने कहा, “एक सप्ताह के अंदर हमने पाया कि प्रयोगशाला में एपिलिमोड मानव कोशिका में सार्स-कोव-2 के संक्रमण से बचाती है।”

मोटापा और कोरोना से रहे सुरक्षित, फॉलो करें ये आसान से 5 टिप्स

Published : August 20, 2020 9:09 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion ICMR अधिकारी का दावा- "अगर मोदी सरकार चाहे तो जल्द मिल सकती है कोरोना वैक्सीन"ICMR अधिकारी का दावा- "अगर मोदी सरकार चाहे तो जल्द मिल सकती है कोरोना वैक्सीन" ICMR अधिकारी का दावा- "अगर मोदी सरकार चाहे तो जल्द मिल सकती है कोरोना वैक्सीन" सुपरफास्ट 'स्पुतनिक-5' वैक्सीन है कितनी सुरक्षित?, WHO ने कहा कड़ी सुरक्षा जांच के बाद होगा स्पष्टसुपरफास्ट 'स्पुतनिक-5' वैक्सीन है कितनी सुरक्षित?, WHO ने कहा कड़ी सुरक्षा जांच के बाद होगा स्पष्ट सुपरफास्ट 'स्पुतनिक-5' वैक्सीन है कितनी सुरक्षित?, WHO ने कहा कड़ी सुरक्षा जांच के बाद होगा स्पष्ट ,,
------分隔线----------------------------

由上内容,由बेस्ट गेम कंसोल收集并整理。